AGARR TUMM NAA HOTE LYRICS – Nihal Tauro

Try Apple Music

Agarr Tumm Naa Hote Lyrics: Agarr Tumm Naa Hote is a song which in word can be described as the purest melody by the maestro composer Himesh Reshammiya who has proved time and again that melody never fails. The song is sung by Nihal Tauro. The music by Himesh Reshammiya while Sameer Anjaan has written the Agarr Tumm Naa Hote Lyrics

Agarr Tumm Naa Hote Song Credits:

Song: Agarr Tumm Naa Hote
Music : Himesh Reshammiya
Lyrics By: Sameer Anjaan
Singer: Nihal Tauro
Featuring: Nihal Tauro
Label: Himesh Reshammiya Melodies

Agarr Tumm Naa Hote (Studio Version)| Himesh Ke Dil Se The Album Vol 1| Himesh| Sameer Anjaan| Nihal

AGARR TUMM NAA HOTE LYRICS

Iklota dil tha mera kaise sambhala
Tanhaiyon se ise tune nikala
Ishq ki mujhko chahat na hoti
Jeene ki bhi jarurat na hoti

Agarr tumm na hote zindagi veeran hoti
Agar tum na hote zindagi veeran hoti

Ishq ki mujhko chahat na hoti
Jeene ki bhi jarurat na hoti
Agar tum na hote zindagi veeran hoti
Agar tum na hote zindagi veeran hoti
Agar tum na hote zindagi veeran hoti

Khud se hua main juda aankhon se jo tune chhua
Kahin kuch to hai hua kuch hua re
Khwabon mein kisi ko basana hota hai kya dil lagana
Pehali dafa yeh jaana, jaana re

Ajnabi pyaas hai yeh sama khaas hai
Tu mere pass hai, pass hai

Iklota dil tha mera kaise sambhala
Tanhaiyon se ise tune nikala
Ishq ki mujhko chahat na hoti
Jeene ki bhi jarurat na hoti

Agar tum na hote zindagi veeran hoti
Agar tum na hote zindagi veeran hoti

Tujhse mila to laga dooriyan hai ek saja
Jeene ki hai tu wajah, tu wajah re
Tu jo kahe kar jaaun had se guzar jaaun
Tere liye mar jaaun, mar jaaun re

Tere deedar ka silsila pyaar ka
Yun hi chalta rahe ab sada

Iklota dil tha mera kaise sambhala
Tanhaiyon se ise tune nikala
Ishq ki mujhko chahat na hoti
Jeene ki bhi jarurat na hoti

Agar tum na hote zindagi veeran hoti
Agar tum na hote zindagi veeran hoti
Agar tum na hote zindagi veeran hoti

अगर तुम ना होते LYRICS IN HINDI

इकलोता दिल था मेरा कैसे संभाला
तन्हाइयों से इसे तूने निकाला
इश्क़ की मुझको चाहत ना होती
जीने की भी ज़रूरत ना होती

अगर तुम ना होते ज़िंदगी वीरान होती
अगर तुम ना होते ज़िंदगी वीरान होती

इश्क़ की मुझको चाहत ना होती
जीने की भी ज़रूरत ना होती
अगर तुम ना होते ज़िंदगी वीरान होती
अगर तुम ना होते ज़िंदगी वीरान होती
अगर तुम ना होते ज़िंदगी वीरान होती

खुद से हुआ मैं जुड़ा आँखों से जो तूने छुआ
कहीं कुछ तो है हुआ कुछ हुआ रे
ख्वाबों में किसी को बसाना होता है क्या दिल लगाना
पहली दफ़ा ये जाना, जाना रे

अजनबी प्यास है यह समा ख़ास है
तू मेरे पास है, पास है

इकलोता दिल था मेरा कैसे संभाला
तन्हाइयों से इसे तूने निकाला
इश्क़ की मुझको चाहत ना होती
जीने की भी ज़रूरत ना होती

अगर तुम ना होते ज़िंदगी वीरान होती
अगर तुम ना होते ज़िंदगी वीरान होती

तुझसे मिला तो लगा दूरियाँ है एक सज़ा
जीने की है तू वजह, तू वजह रे
तू जो कहे कर जाऊं हद से गुज़र जाऊं
तेरे लिए मर जाऊं, मर जाऊं रे

तेरे दीदार का सिलसिला प्यार का
यूँ ही चलता रहे अब सदा

इकलोता दिल था मेरा कैसे संभाला
तन्हाइयों से इसे तूने निकाला
इश्क़ की मुझको चाहत ना होती
जीने की भी ज़रूरत ना होती

अगर तुम ना होते ज़िंदगी वीरान होती
अगर तुम ना होते ज़िंदगी वीरान होती
अगर तुम ना होते ज़िंदगी वीरान होती

Try Apple TV

Related Articles

Stay Connected

601FansLike

Latest Articles