BEKHAYALI LYRICS – Kabir Singh

Bekhayali Lyrics from Kabir Singh: “Bekhayali” is a song from the Indian movie Kabir Singh, This song is featuring Shahid Kapoor, Kiara Advani. sung by Sachet Tandon and composed by Sachet-Parampara and lyrics written by Irshad Kamil.

Bekhayali Song Credits:

Singer – Sachet Tandon
Music Director – Sachet-Parampara
Lyrics – Irshad Kamil
Starring–Shahid Kapoor and Kiara Advani
Label- T-Series

Bekhayali Full Song | Kabir Singh

Bekhayali Lyrics

Bekhayali Mein Bhi
Tera Hi Khayal Aaye
Kyun Bichadna Hai Jaruri
Ye Sawal Aaye

Teri Nazdeekiyon
Ki Khushi Behisab Thi
Hisse Mein Fansle
Bhi Tere Bemisal Aaye

Main Jo Tumse Door Hu
Kyun Door Main Rahun
Tera Guroor Hu Uun
Aa Tu Fansla Mita
Tu Khwaab Sa Mila
Kyun Khwaab Tod Du

Bekhayali Mein Bhi
Tera Hi Khayal Aaye
Kyun Judai De Gaya Tu
Ye Sawal Aaye

Thoda Sa Main Kafa
Ho Gaya Apne Aap Se
Thoda Sa Tujhpe Bhi
Bewajah Hi Malaal Aaye

Hai Ye Tadpan Hai Ye Uljhan
Kaise Jee Lu Bina Tere
Meri Ab Sabse Hai Ann-Ban
Bante Kyun Ye Khuda Mere Ulll

Ye Jo Log-Baag Hai
Jungle Ki Aag Hai
Kyun Aag Mein Jalu
Ye Nakaam Pyar Mein
Khush Hain Haar Mein
Inn Jaisa Kyun Banu

Raatein Dengi Bata
Neendon Mein Teri Hi Baat Hai
Bhoolun Kaise Tujhe
Tu Toh Khayalo Mein Sath Hai

Bekhayali Mein Bhi
Tera Hi Khayal Aaye
Kyun Bichadna Hai Jaruri
Ye Sawal Aaye

Nazar Ke Aage, Har Ek Manjar
Ret Ki Tarha Bikhar Raha Hai
Dard Tumhara Badan Mein Mere
Zehar Ki Tarah Utar Raha Hai

Nazar Ke Aage, Har Ek Manjar
Ret Ki Tarha Bikhar Raha Hai
Dard Tumhara Badan Mein Mere
Zehar Ki Tarah Utar Raha Hai

Aajmaane Aajma Le Ruthta Nahi
Faanslon Se Haunsla Ye Tutt’ta Nahi
Na Hai Wo Bewafa Aur Na Main Hu Bewafa
Wo Meri Aadaton Ki Tarah Chhutata Nahi

बेख़याली LYRICS IN HINDI

बेख़याली में भी तेरा ही ख़्याल आये
क्यूँ बिछड़ना है ज़रूरी ये सवाल आये
तेरी नज़दीक़ियों की ख़ुशी बेहिसाब थी
हिस्से में फ़ासले भी तेरे बेमिसाल आये

मैं जो तुमसे दूर हूँ
क्यूँ दूर मैं रहूँ?
तेरा ग़ुरूर हूँ

आ तू फ़ासला मिटा
तू ख़्वाब सा मिला
क्यूँ ख़्वाब तोड़ दूँ?

बेख़याली में भी तेरा ही ख़्याल आये
क्यूँ जुदाई दे गया तू ये सवाल आये
थोड़ा सा मैं ख़फ़ा हो गया अपने आप से
थोड़ा सा तुझपे भी बेवजह ही मलाल आये

है ये तड़पन, है ये उलझन
कैसे जी लूँ बिना तेरे
मेरी अब सब से है अनबन
बनते क्यूँ ये ख़ुदा मेरे

ये जो लोग-बाग हैं
जंगल की आग हैं
क्यूँ आग में जलूँ?
ये नाकाम प्यार में

ख़ुश हैं हार में
इन जैसा क्यूँ बनूँ?

रातें देंगी बता
नीदों में तेरी ही बात है
भूलूं कैसे तुझे
तू तो ख़्यालों में साथ है

बेख़याली में भी तेरा ही ख़्याल आये
क्यूँ बिछड़ना है ज़रूरी ये सवाल आये

नज़र के आगे हर एक मंज़र
रेत की तरह बिखर रहा है
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे
ज़हर की तरह उतर रहा है

नज़र के आगे हर एक मंज़र
रेत की तरह बिखर रहा है
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे
ज़हर की तरह उतर रहा है

आ ज़माने आज़मा ले रूठता नहीं
फ़ासलों से हौसला ये टूटता नहीं
ना है वो बेवफ़ा और ना मैं हूँ बेवफ़ा
वो मेरी आदतों की तरह छूटता नहीं

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

601FansLike

Latest Articles