SHAYAD FIR SE LYRICS – RAHUL VAIDYA

Shayad Fir Se Lyrics: The new Hindi song ‘Shayad Fir Se’ by Rahul Vaidya featuring Anjali Arora & Rajat Verma. Lyrics are penned by Kirat Gill and Music done by Barrel. The video of this song is done by Team All Good & Viraj Joshi.

Shayad Fir Se Song Audio Credits :

Singer – Rahul Vaidya
Lyrics – Kirat Gill
Music – Barrel
Featuring – Anjali Arora & Rajat Verma
Label – Nupur Audio

Shayad Fir Se (Official Video) | Rahul Vaidya Ft. Anjali Arora, Rajat Verma | New Hindi Song 2021

Shayad Fir Se Lyrics –

Jo bhi humse gustakhi hui, Chalo bhool ke ab bas pyar kre
Tum shaamon mein fir sun ne aao, Fir ishq pade gulzaar bane
Bohot karli baatein logon ne, Bas Ab or na ho deri
Bohot ab beet liye sawan, Fir us hawa se milte hain

Jahan pehli baar gale mile, Us jagah pe milte hain
Shayad fir se dil mil jaye, Us wajah se milte hain

Dekh ke sitaaro ko, Fir se un bahaaro ko
Dil ke bimaarooo ko, davaa di jaye
Fir se muskurate hai chal, Chand ko bulate hai
Hatho ko mila ke fir, Duaa ki jaye
Baat itni si hi to thi, Baat ko yahi chhodte hai
Kirat se fir se pyaar ho jaye , Bas us tarah se milte hai

Jahan pehli baar gale mile, Us jagah pe milte hain
Shayad fir se dil mil jaye, Us wajah se milte hain

Pehle to chup se rahenge, fir dheeme se bolenge
Kandhe pe sar rakh unke , bahane se ro lenge
Vo thoda thoda ladte rahenge par, bichhadne ka dar bhi rahega
Hothon se shikve kiye jo, sab aansuo se dho lenge
Jale panno ki kahani ko, sunane ka mauka to do
Ye mauke dil ko jod de jo , bas ik dafa hi milte hai

Jahan pehli baar gale mile, Us jagah pe milte hain
Shayad fir se dil mil jaye, Us wajah se milte hain

शायद फिर से LYRICS IN HINDI

चलो फिर से मिलते हैं
इकरार करने को
जो बातें अधूरी रह गयी थी
उसे इज़हार करने को
चलो फिर से मिलते हैं

जो भी हमसे गुस्ताख़ी हुई
चलो भूल के बस अब प्यार करें
तुम शामों में फिर सुनने आओ
फिर इश्क़ पड़े गुलज़ार बने

बहुत कर ली बातें लोगों ने
बस अब और ना हो देरी
बहुत अब बीत लिए सावन
फिर उस हवा से मिलते हैं

जहाँ पहली बार गले मिले
उस जगह पे मिलते हैं
शायद फिर से दिल मिल जायें
उस वजह से मिलते हैं

जहाँ पहली बार गले मिले
उस जगह पे मिलते हैं
शायद फिर से दिल मिल जायें
उस वजह से मिलते हैं

देख के सितारों को फिर से उन बहारों को
दिल के बीमारों को दवा दी जाए
फिर से मुस्कुराते हैं चल चाँद को बुलाते हैं
हाथों को मिला के फिर दुआ की जाए

बात इतनी सी ही तो थी
बात को यहीं छोड़ते हैं
किरत से फिर से प्यार हो जाए
बस उस तरह से मिलते हैं

जहाँ पहली बार गले मिले
उस जगह पे मिलते हैं
शायद फिर से दिल मिल जायें
उस वजह से मिलते हैं

पहले तो चुप से रहेंगे
फिर धीमे से बोलेंगे
काँधे पे सर रख उनके
बहाने से रो लेंगे

वो थोड़ा थोड़ा लड़ते रहेंगे
पर बिछड़ने का डर भी रहेगा
होठों से शिकवे किए जो सब
आँसुओं से धो लेंगे

जले पन्नों की कहानी को
सुनने का मौका तो दो
ये मौके दिल को जोड़ दे जो
बस एक दफ़ा ही मिलते हैं

जहाँ पहली बार गले मिले
उस जगह पे मिलते हैं
शायद फिर से दिल मिल जायें
उस वजह से मिलते हैं

Related Articles

Stay Connected

601FansLike

Latest Articles